Skip to main content

Featured Post

सोंढूर बांध - जबरा ईको टूरिज्म | SONDUR DAM - JABRA ECO TOURISM

लिंगेश्वरी माता मंदिर साल में एक बार खुलता है आलोर मंदिर का कपाट | ALOR TEMPLE FARASGAON

लिंगेश्वरी माता मंदिर के बारे में पूरी जानकारी :-

लिंगेश्वरी माता मंदिर

छत्तीसगढ़ में आलोर, फरसगांव स्थित एक ऎसा दरबार है। पंचायत की दांयी दिशा में अत्यंत ही मनोरम पर्वत श्रृंखला है। इस पर्वत श्रृंखला के बीचोंबीच धरातल से 100 मी. की ऊंचाई पर प्राचीनकाल की मां लिंगेश्वरी देवी की प्रतिमा विधमान है। आलोर मंदिर का दरवाजा साल में एक ही बार खुलता है। लिंगेश्वरी माता के मंदिर का दरवाजा खुलते ही पांच व्यक्ति रेत पर अंकित निशान देखकर भविष्य में घटने वाली घटनाओं की जानकारी देते हैं। रेत पर यदि बिल्ली के पंजे के निशान हों तो अकाल और घो़डे के खुर के चिह्न हो तो उसे युद्ध या कलह का प्रतीक माना जाता है। पीढि़यों से चली आ रही इस विशेष परंपरा और लोगों की मान्यता के कारण भाद्रपद माह में एक दिन शिवलिंग की पूजा होती है। लिंगेश्वरी माता का द्वार साल में एक बार ही खुलता है।सूर्य उदय के साथ ही दर्शन प्रारंभ होकर सूर्यास्त तक मां की प्रतिमा का दर्षन कर श्रद्धालुगण हर्श विभोर होते है।

लिंगेश्वरी माता मंदिर साल में एक बार खुलता है आलोर मंदिर का कपाट | ALOR TEMPLE FARASGAON


ब़डी संख्या में नि:संतान दंपति यहां संतान की कामना लेकर आते हैं। उनकी मन्नत पूरी होती है। आलोर मंदिर कोंडागांव जिले के विकासखंड मुख्यालय फरसगांव से लगभग नौ किलोमीटर दूर पश्चिम में ब़डेडोंगर मार्ग पर गांव आलोर मंदिर स्थित है।

गांव से लगभग दो किलोमीटर दूर पश्चिमोत्तर में एक पह़ाडी है, जिसे लिंगाई माता के नाम से जाना जाता है। इस छोटी-सी पह़ाडी के ऊपर एक विस्तृत फैला हुआ चट्टान है।चट्टान के ऊपर एक विशाल पत्थर है। बाहर से अन्य पत्थर की तरह सामान्य दिखने वाला यह पत्थर अंदर से स्तूपनुमा है। इस पत्थर की संरचना को भीतर से देखने पर ऎसा लगता है, मानो कोई विशाल पत्थर को कटोरानुमा तराशकर चट्टान के ऊपर उलट दिया गया हो। इस मंदिर की दक्षिण दिशा में छोटी-सी सुरंग है, जो इस गुफा का प्रवेश द्वार है। प्रवेश द्वार इतना छोटा है कि बैठकर या लेटकर ही यहां प्रवेश किया जाता है। अंदर इतनी जगह है कि लगभग 25 से 30 आदमी आराम से बैठ सकते हैं।

गुफा के अंदर चट्टान के बीचो-बीच प्राकृतिक शिवलिंग है, जिसकी लंबाई लगभग दो या ढाई फुट होगी। प्रत्यक्षदर्शियों का मानना है कि पहले इसकी ऊंचाई बहुत कम थी। बस्तर का यह शिवलिंग गुफा गुप्त है। वर्षभर में दरवाजा एक दिन ही खुलता है, बाकी दिन ढका रहता है। इसे शिव और शक्ति का समन्वित नाम दिया गया है लिंगाई माता। प्रतिवर्ष भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि के बाद आने वाले बुधवार को इस प्राकृतिक देवालय को खोल दिया जाता है। दिनभर श्रद्धालु आते रहते हैं, दर्शन और पूजा-अर्चना करते हैं। इसके बाद पत्थर टिकाकर दरवाजा बंद कर दिया जाता है।

मंदिर से जुडी मान्यताएँ-

पहली मान्यता -कहा जाता है आलोर मंदिर ज्यादातर नि:संतान दंपति संतान की कामना से आते हैं। संतान प्राप्ति की इच्छा रखने वाले दंपति नियमानुसार खीरा चढ़ाते हैं। चढ़ाए हुए खीरे को नाखून से फ़ाडकर शिवलिंग के समक्ष ही (क़डवा भाग सहित) खाकर गुफा से बाहर निकलना होता है। यह प्राकृतिक शिवालय पूरे प्रदेश में आस्था और श्रद्धा का केंद्र है।

दूसरी मान्यता -स्थानीय लोगों का कहना है कि पूजा के बाद आलोर मंदिर की सतह (चट्टान) पर रेत बिछाकर उसे बंद किया जाता है। अगले वर्ष इस रेत पर किसी जानवर के पदचिह्न अंकित मिलते हैं। निशान देखकर भविष्य में घटने वाली घटनाओं का अनुमान लगाया जाता है।

Popular Posts

केशकाल के छिपे हुए जलप्रपात कुऐमारी, लिमदरहा,आमादरहा | KUYEMARI WATERFALL KESHKAL

केशकाल के छिपे हुए जलप्रपात कुऐमारी, लिमदरहा,आमादरहा  इस झरने के बारे में अधिकतर लोगों को जानकारी नहीं है केशकाल से लगभग 20 km की दुरी पर स्थित  कुऐमारी जलप्रपात बहुत खूबसूरत है  यह 70 - 80 फीट ऊंचा है। प्राकृतिक सुंदरता से घिरा हुआ जंगलो के बीच कुऐमारी जलप्रपात शांति का अनुभव कराने वाला है। अगर आप जाने का प्लान बना रहे है और आपको वहां के रास्ते की जानकारी नहीं है तो सही मार्गदर्शन से जाये रास्ते आपको भटका सकते है क्योकि जंगलों वाला इलाका होने के कारण मोबाइल इंटरनेट सही से नहीं मिल पायेगा। इसके आस पास आपको और कई प्राकृतिक झरने देखने को मिल जाएगा बरसात के दिनों में यह जलप्रपात देखने लायक होता है अगर आप केशकाल आये है तो देखने जरूर जाना चाहिए।  केशकाल के आस पास आपको आमादरहा,मुक्तेखड्का,ऊपरबेदी,लिमदरहा,बावनीमारी के झरने भी देखने को मिल जायेगा।
1. लीमदरहा वाटरफॉल :- केशकाल से 9.7 किमी की दुरी पर बावनिमारी गाँव स्तिथ है। बावनिमारी गाँव से होकर बहने वाला यह वाटरफॉल काफी ऊंचा और चौडा है । यह 25 फीट उँचाई से गिरता है और इसकी चौड़ाई 35 फीट है। यह वाटरफॉल बारहमासी है, इसमे पुरे 12 बारह महीने पानी ब…

मां विंध्यवासिनी बिलाई माता मंदिर | BILAI MATA MANDIR DHAMTARI

मां विंध्यवासिनी बिलाई माता मंदिर धमतरी की आराध्य देवी मां विंध्यवासिनी यानी बिलाई माता पर लाखों भक्तों की आस्था है। यहां चैत्र और क्वांर नवरात्र में हजारों की संख्या में श्रद्धालुजन जुटते हैं। शहर के अंतिम छोर पर दक्षिण दिशा में मां बिलाई माता का मंदिर है। किंवदती है कि मां विंध्यवासिनी की मूर्ति जमीन से निकली है, जो धीरे-धीरे ऊपर आती जा रही है। 
 माना जाता है कि प्राण-प्रतिष्ठा के बाद देवी की मूर्ति स्वयं ऊपर उठी और आज की स्थिति में आई। इसका प्रत्यक्ष प्रमाण आज भी देखने को मिलता है। पहले निर्मित द्वार से सीधे देवी के दर्शन होते थे। उस समय मूर्ति पूर्ण रूप से बाहर नहीं आई थी, किंतु जब मूर्ति पूर्ण रूप से बाहर आई तो चेहरा द्वार के बिल्कुल सामने नहीं आ पाया, थोड़ा तिरछा रह गया।
मूर्ति का पाषाण एकदम काला था। मां विंध्यवासिनी देवी की मूर्ति भी काली थी, लेकिन वर्तमान में रंगने के कारण मूर्ति वर्तमान स्वरूप में दिखाई देती है।1825 में चंद्रभागा बाई पवार ने इस मंदिर का जीर्णोद्धार कराया था।
उन्हें विंध्यवासिनी देवी और छत्तीसगढ़ी में बिलाई माता कहा जाने लगा। इस मंदि…

बारसूर का जुड़वां गणेश मंदिर | TWIN GANESHA TEMPLE BARSUR

बारसूर का जुड़वां गणेश मंदिर की पूरी जानकारी  दुनिया का एकमात्र ऐसा मंदिर जहां विराजमान है भगवान गणेश की दो विशालकाय मूर्ति ऐसी महिमा है छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से 395 किमी दूर स्थित बारसूर के गणेश मंदिर की. बारसूर को तालाबों और मंदिरों का शहर कहा जाता है, जहां कभी 147 मंदिर हुआ करते थे. बारसूर का जुड़वां गणेश मंदिर छत्तीसगढ़  के बारसूर को मंदिरों का शहर भी कहा जाता है। यहां वैसे तो काफी प्रसिद्ध मंदिर स्थित है। लेकिन बारसूर केजुड़वां गणेश मंदिर शायद पूरी दुनिया में अनोखा है। इस मंदिर में दो गणेश प्रतिमा है। एक की ऊंचाई सात फ़ीट की है तो दूसरी की पांच फ़ीट है। इन मूर्ति के निर्माण में कलाकार ने बड़ी ही शानदार कलाकारी दिखाई है। इस बार इन मूर्तियों को देखकर भक्त इसको देखते ही रह जाते है। ये दोनों मूर्ति एक ही चट्टान पर बिना किसी जोड़ के बनाई है।


पौराणिक मान्यता के अनुसार इस मंदिर का निर्माण राजा बाणासुर ने करवाया था। राजा की पुत्री और उसकी सहेली दोनों भगवान गणेश की खूब पूजा करती थी। लेकिन इस इलाके में दूर तक कोई गणेश मंदिर नहीं था। जिसके लिए राजा की पुत्री को गणेश जी की आराधना के लिए दूर ज…

छत्तीसगढ़ पढ़ई तुंहर दुआर पोर्टल (पंजीकरण)

छत्तीसगढ़ सरकारी योजनाएँ 2020

छत्तीसगढ़ सरकार योजना सूची 2020 | छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा चलाई गई योजनयों की सूची
तो प्यारे दोस्तों छत्तीसगढ़ सरकार समय-समय पर तरह-तरह की सरकारी योजनाओं की घोषणा करती रहती है यहां पर हम आपको छत्तीसगढ़ सरकार संबंधित हर योजना की जानकारी हिंदी में देते रहेंगे हर व्यक्ति के लिए वर्ग के लिए सरकार ने किसी न किसी तरह की योजना चला रखी है |

छत्तीसगढ़ सरकारी योजनाएं |छत्तीसगढ़ सरकार स्कीम लिस्ट
अगर आप छत्तीसगढ़ के रहने वाले हैं और सरकारी योजनाओं में रुचि रखते हैं तो यहां पर आपको सारी योजनाओं की संपूर्ण जानकारी विस्तार से मिल जाएगी आपको बस अपने पसंद की योजना पिक क्लिक करना है और आप सारी जानकारी आसानी से ले सकेंगे.


देश में लॉकडाउन के चलते हर चीज बंद हैं, ऐसे में पढ़ाई करने वाले छात्रों का समय बहुत ज्यादा खराब हो रहा है, इसलिए छत्तीसगढ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा एक नया वेब पोर्टल की शुरूआत की है, जिसका नाम है पढ़ई तुंहर दुआर पोर्टल (Chattisgarh Padhai Tuhar Dwar Portal)। इसकी मदद से बच्चे घर बैठे ही अपनी पढ़ाई शुरू कर पाएंगे।

इस पढ़ई तुंहर पोर्टल के जरिए छात…