Skip to main content

Featured Post

सोंढूर बांध - जबरा ईको टूरिज्म | SONDUR DAM - JABRA ECO TOURISM

कोंडागांव मेला | KONDAGAON MELA

कोंडागांव मेला के बारे में जानकारी -

 मेले के पहले दिन कोंडागांव के कुम्हारपारा स्थित बूढ़ी माता मंदिर में पटेल, गायता, पुजारी व सभी ग्रामीण एकत्रित होकर ढोल-नगाड़े, मोहरीबाजा आदि पारंपरिक वाद्य यंत्रों की धुन के साथ बूढ़ी माता की पालकी लेकर मेला स्थल पहुंचते हैं। बूढ़ी माता या डोकरी देव के आगमन के बाद नगर में आगंतुक देवी-देवताओं का स्वागत सत्कार होता है। इसके पश्चात मेले की प्रमुख देवी पलारी से आई देवी पलारीमाता द्वारा मेला स्थल का फेरा लगाया जाता है। देवी-देवताओं के लाट, आंगा, डोली आदि की मेला में फेरा लगाने के दौरान महिलाएं उत्सुकतापूर्वक चावल व पुष्प अर्पण कर खुशहाली की कामना करती है। बाद में अन्य सभी देवी-देवता मेला की परिक्रमा करते हैं। कोंडागांव मेले में फेरे के दौरान कुछ देवी-देवता लोहे की कील की कुर्सियों में विराजमान रहते हैं। मेला परिक्रमा के पश्चात देवी-देवता एक जगह एकत्रित होकर अपनी अपनी शक्तियों का प्रदर्शन करते हैं। जिसे देव खेलाना या देव नाच कहते हैं।

फागुन पूर्णिमा के पहले मंगलवार केा माता पहुंचानी (जातरा) का आयोजन होता है;जिसमें गांव के प्रमुख पटेल,कोटवार एकत्रित होकर देवी-देवताओं का आहवान कर उन्हें मेला हेतु आमंत्रित करते है तथा देवताओं से मांग की जाती है कि आने वाले साल भर खेती कार्यजनवार इत्यादि में किसी प्रकार का प्रकोप बीमारी जैस विघ्न ना आये। इसके अगले मंगलवार को देवी-देवताओें का आगमन होता है तथा ग्राम देवी के गुड़ी मंदिर में एकत्रित होकर मेला परिसर की परिक्रमा कर मेले के शुभारंभ की घोसणा की जाती है। इस मेले में परंपरा रही है कि बस्तर राजा पुरूषोत्तम देव के प्रतिनिधि तौर पर तहसील प्रमुख होने के नाते तहसीलदार को बकायदा सम्मान के साथ परघा कर मेले में ले जाते है। तहसीलदार को हजारी फूल का हार पहनाते है। शीतला मातामौली मंदिर में पूजा तथा मेले की परिक्रमा होती है। यह प्रथा आज भी प्रचलित है|
कोंडागांव मेला | KONDAGAON MELA



गांव के कोटवार हाथ में आम की टहनी लेकर मेला समिति के सदस्यों के साथ साप्ताहिक बाजार में घूमते हुए लोगों को मेले में आने का निमंत्रण देते है. मेला समिति के सचिव नरपति ने निमंत्रण पत्र और मेले के रस्म को बताते हुए कहा कि आम की टहनी से निमंत्रण देने का रिवाज सात सौ (700) साल पुराना है जो लगातार  चला आ रहा है. गांव के मंदिरों में पूजा अर्चना कर आम की पट्टी का तोरण बांधने की परंपरा है. तोरण लेकर घूमने के बजाय आम की टहनी को लेकर कोटवार घूमता है. इसके अलावा साप्ताहिक बाजारों में आम की टहनी के साथ मुनादी करते हुए आमजनों को भी इसके जरिये निमंत्रण दिया जाता है.


कील गड़ाकर आपदा से बचाने का रिवाज


यू तो कोंडागांव मेले अपनी ऐतिहासिकता के साथ बहुरंगी आदिवासी संस्कृति, धार्मिक आस्था, सांस्कृतिक सभ्यता एवं लोक परम्पराओं के निर्वहन के चलते अपना विशिष्ट स्थान रखता है. लेकिन बस्तर के इस मेले की बात ही निराली है. कोंडागांव जिले में 1330 से चली आ रही मेले की परम्परा आज भी वैसे ही है. मेले में दूर-दाराज से लोगों को निमत्रंण देकर बुलावा भेजा जाता है. इस परिपेक्ष में यहां मेले का अयोजन करने वाली मेला समिति की पूरी जिम्मेदारी होती है.

कोंडागांव मेले में आए लोगों को पूरी तरह से सुरक्षा देने की हालांकि आजकल पुलिस और जिला प्रशासन ने इसकी जिम्मेदारी ले रखी है, लेकिन सालों पुरानी इस परम्परा और रिति-रिवाज के अनुसार आज भी मेले की शुरूआत से समापन तक विभिन्न विधान मेला समिति के द्वारा नियमों से किए जाते है. चरण बद्ध तरीके से होने वाले परमपराओ में मेले के आगाज के पहले आपदा से बचने मेला स्थल में कील गड़ाया जाता है जिसे मांडो रस्म कहते है



कोंडागांव मेला   Kondagaon Madai



पारम्परिक शिल्प का होता है कारोबार

इस पारंपरिक कोंडागांव मेले में अब व्यवसायिकता का तड़का भी लगने लगा है। मीना बाजार की तरह कई तरह के झूले यहां लगते हैं, साथ ही सरकारी स्तर पर हस्तशिल्प प्रदर्शनी, महिला समूह के उत्पाद का भी आयोजन किया गया है। देश की अन्य राज्यों से भी कारोबारी मेला में पहुंचते हैं। मेले में लकड़ी, बांस, बेलमेटल सहित कई तरह के हस्तशिल्प उत्पाद लोगों को आकर्षित कर रहे हैं वर्ष में एक बार लगने वाले मेले में खरीददारों की भीड़ उमड़ती है।

Popular Posts

केशकाल के छिपे हुए जलप्रपात कुऐमारी, लिमदरहा,आमादरहा | KUYEMARI WATERFALL KESHKAL

केशकाल के छिपे हुए जलप्रपात कुऐमारी, लिमदरहा,आमादरहा  इस झरने के बारे में अधिकतर लोगों को जानकारी नहीं है केशकाल से लगभग 20 km की दुरी पर स्थित  कुऐमारी जलप्रपात बहुत खूबसूरत है  यह 70 - 80 फीट ऊंचा है। प्राकृतिक सुंदरता से घिरा हुआ जंगलो के बीच कुऐमारी जलप्रपात शांति का अनुभव कराने वाला है। अगर आप जाने का प्लान बना रहे है और आपको वहां के रास्ते की जानकारी नहीं है तो सही मार्गदर्शन से जाये रास्ते आपको भटका सकते है क्योकि जंगलों वाला इलाका होने के कारण मोबाइल इंटरनेट सही से नहीं मिल पायेगा। इसके आस पास आपको और कई प्राकृतिक झरने देखने को मिल जाएगा बरसात के दिनों में यह जलप्रपात देखने लायक होता है अगर आप केशकाल आये है तो देखने जरूर जाना चाहिए।  केशकाल के आस पास आपको आमादरहा,मुक्तेखड्का,ऊपरबेदी,लिमदरहा,बावनीमारी के झरने भी देखने को मिल जायेगा।
1. लीमदरहा वाटरफॉल :- केशकाल से 9.7 किमी की दुरी पर बावनिमारी गाँव स्तिथ है। बावनिमारी गाँव से होकर बहने वाला यह वाटरफॉल काफी ऊंचा और चौडा है । यह 25 फीट उँचाई से गिरता है और इसकी चौड़ाई 35 फीट है। यह वाटरफॉल बारहमासी है, इसमे पुरे 12 बारह महीने पानी ब…

मां विंध्यवासिनी बिलाई माता मंदिर | BILAI MATA MANDIR DHAMTARI

मां विंध्यवासिनी बिलाई माता मंदिर धमतरी की आराध्य देवी मां विंध्यवासिनी यानी बिलाई माता पर लाखों भक्तों की आस्था है। यहां चैत्र और क्वांर नवरात्र में हजारों की संख्या में श्रद्धालुजन जुटते हैं। शहर के अंतिम छोर पर दक्षिण दिशा में मां बिलाई माता का मंदिर है। किंवदती है कि मां विंध्यवासिनी की मूर्ति जमीन से निकली है, जो धीरे-धीरे ऊपर आती जा रही है। 
 माना जाता है कि प्राण-प्रतिष्ठा के बाद देवी की मूर्ति स्वयं ऊपर उठी और आज की स्थिति में आई। इसका प्रत्यक्ष प्रमाण आज भी देखने को मिलता है। पहले निर्मित द्वार से सीधे देवी के दर्शन होते थे। उस समय मूर्ति पूर्ण रूप से बाहर नहीं आई थी, किंतु जब मूर्ति पूर्ण रूप से बाहर आई तो चेहरा द्वार के बिल्कुल सामने नहीं आ पाया, थोड़ा तिरछा रह गया।
मूर्ति का पाषाण एकदम काला था। मां विंध्यवासिनी देवी की मूर्ति भी काली थी, लेकिन वर्तमान में रंगने के कारण मूर्ति वर्तमान स्वरूप में दिखाई देती है।1825 में चंद्रभागा बाई पवार ने इस मंदिर का जीर्णोद्धार कराया था।
उन्हें विंध्यवासिनी देवी और छत्तीसगढ़ी में बिलाई माता कहा जाने लगा। इस मंदि…

बारसूर का जुड़वां गणेश मंदिर | TWIN GANESHA TEMPLE BARSUR

बारसूर का जुड़वां गणेश मंदिर की पूरी जानकारी  दुनिया का एकमात्र ऐसा मंदिर जहां विराजमान है भगवान गणेश की दो विशालकाय मूर्ति ऐसी महिमा है छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से 395 किमी दूर स्थित बारसूर के गणेश मंदिर की. बारसूर को तालाबों और मंदिरों का शहर कहा जाता है, जहां कभी 147 मंदिर हुआ करते थे. बारसूर का जुड़वां गणेश मंदिर छत्तीसगढ़  के बारसूर को मंदिरों का शहर भी कहा जाता है। यहां वैसे तो काफी प्रसिद्ध मंदिर स्थित है। लेकिन बारसूर केजुड़वां गणेश मंदिर शायद पूरी दुनिया में अनोखा है। इस मंदिर में दो गणेश प्रतिमा है। एक की ऊंचाई सात फ़ीट की है तो दूसरी की पांच फ़ीट है। इन मूर्ति के निर्माण में कलाकार ने बड़ी ही शानदार कलाकारी दिखाई है। इस बार इन मूर्तियों को देखकर भक्त इसको देखते ही रह जाते है। ये दोनों मूर्ति एक ही चट्टान पर बिना किसी जोड़ के बनाई है।


पौराणिक मान्यता के अनुसार इस मंदिर का निर्माण राजा बाणासुर ने करवाया था। राजा की पुत्री और उसकी सहेली दोनों भगवान गणेश की खूब पूजा करती थी। लेकिन इस इलाके में दूर तक कोई गणेश मंदिर नहीं था। जिसके लिए राजा की पुत्री को गणेश जी की आराधना के लिए दूर ज…

छत्तीसगढ़ पढ़ई तुंहर दुआर पोर्टल (पंजीकरण)

छत्तीसगढ़ सरकारी योजनाएँ 2020

छत्तीसगढ़ सरकार योजना सूची 2020 | छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा चलाई गई योजनयों की सूची
तो प्यारे दोस्तों छत्तीसगढ़ सरकार समय-समय पर तरह-तरह की सरकारी योजनाओं की घोषणा करती रहती है यहां पर हम आपको छत्तीसगढ़ सरकार संबंधित हर योजना की जानकारी हिंदी में देते रहेंगे हर व्यक्ति के लिए वर्ग के लिए सरकार ने किसी न किसी तरह की योजना चला रखी है |

छत्तीसगढ़ सरकारी योजनाएं |छत्तीसगढ़ सरकार स्कीम लिस्ट
अगर आप छत्तीसगढ़ के रहने वाले हैं और सरकारी योजनाओं में रुचि रखते हैं तो यहां पर आपको सारी योजनाओं की संपूर्ण जानकारी विस्तार से मिल जाएगी आपको बस अपने पसंद की योजना पिक क्लिक करना है और आप सारी जानकारी आसानी से ले सकेंगे.


देश में लॉकडाउन के चलते हर चीज बंद हैं, ऐसे में पढ़ाई करने वाले छात्रों का समय बहुत ज्यादा खराब हो रहा है, इसलिए छत्तीसगढ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा एक नया वेब पोर्टल की शुरूआत की है, जिसका नाम है पढ़ई तुंहर दुआर पोर्टल (Chattisgarh Padhai Tuhar Dwar Portal)। इसकी मदद से बच्चे घर बैठे ही अपनी पढ़ाई शुरू कर पाएंगे।

इस पढ़ई तुंहर पोर्टल के जरिए छात…