Sunday, August 16, 2020

भोरमदेव वन्यजीव अभ्यारण्य कबीरधाम छत्तीसगढ़ | bhoramdev wildlife sanctuary kabirdham chhattisgarh

भोरमदेव वन्यजीव अभ्यारण्य छत्तीसगढ़ के बारे में पूरी जानकारी :-

भोरमदेव वन्यजीव अभयारण्य छत्तीसगढ़ भारत कई मायनों में छत्तीसगढ़ में वन्यजीवों का चेहरा है और पर्यटकों द्वारा विशेष रूप से पसंद किया जाता है। भोरमदेव अभयारण्य मैकल की हरी-भरी वादियों में फैला हुआ है। 352 वर्ग किलो मीटर क्षेत्र में फैला हुआ यह अभ्यारण अपने में अनेक प्राकृतिक विशेषताओं को समेटे हुए है। कान्हा राष्ट्रीय उद्यान और अचानकमार टाइगर रिजर्व दोनों को संरक्षण भी प्रदान करता है। 

bhoramdev wildlife sanctuary kabirdham chhattisgarh

भोरमदेव वन्यजीव अभ्यारण्य छत्तीसगढ़ :-

छत्तीसगढ़ राज्य बनने के बाद वर्ष 2001 में भोरमदेव अभयारण्य बनाया गया। तब नए राज्य के रूप में छत्तीसगढ़ का गठन हुआ था। चिल्फी घाटी के साथ ही कान्हा नेशनल पार्क का भी एक बढ़ा बफर जोन नवगठित छत्तीसगढ़ राज्य में आ गया। चूँकि भोरमदेव और चिल्फी का यह क्षेत्रकान्हा नेशनल पार्क और अचानकमार के बीच पहले से ही एक कारीडोर के रूप में था। वन्यप्राणी की आवाजाही इधर से ही होती रही है। इसलिए वन्य प्राणियों की प्रजातियों में भी स्वाभाविक रूप से समानता पायी जाती है। इसका नामकरण भी यहाँ छत्तीसगढ़ का खजुराहो नाम से प्रतिष्टित भोरमदेव मंदिर के नाम पर ही अधिसूचित किया गया। 

प्रमुख वनस्पतियाँ :-

भोरमदेव वन्यजीव अभयारण्य छत्तीसगढ़ में वनस्पतियों का निर्माण साल, साजा, तिनसा, कारा और हलुसी प्रजातियों से होता है

प्रमुख वन्यजीव :-

जीवों में ज्यादातर जंगली जानवर जैसे तेंदुआ, लकड़बग्घा, लोमड़ी, भालू, चीतल, जंगली भैंस, नीलगाय आदि शामिल हैं। अभयारण्य में बहने वाली सकरी नदी जंगली जानवरों के पीने के पानी का स्रोत है।

कैसे पहुंचे :-

अभयारण्य के निकटतम शहर कवर्धा का है। अभयारण्य रायपुर से 140 किमी दूर है। आप भोरमदेव वन्यजीव अभयारण्य कवर्धा से सड़कों द्वारा यात्रा कर सकते हैं जो फिर से रायपुर से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। निकटतम हवाई अड्डा रायपुर में है।

जाने के लिए अच्छा समय :-

भोरमदेव वन्यजीव अभयारण्य का दौरा करने का सबसे अच्छा समय नवंबर और मार्च के बीच है। 

छत्तीसगढ़ के अन्य वन्यजीव संरक्षण स्थल :-



1 comment:

Post a Comment